Sunday, February 10, 2008

तसलीमा ने कहाः एक कमरे में तिल-तिल मेरी हत्या कर रही है-धर्मनिरपेक्षता




जिस घर में मुझे रहने को बाध्य किया जा रहा है


इन दिनों मैं ऐसे एक कमरे में रहती हूं,
जिसमें एक बंद खिड़की है,
जिसे खोलना चाहूं, तो मैं खोल नहीं सकती,
खिड़की मोटे पर्दे से ढंकी हुई है,
चाहूं भी तो मैं उसे खिसका नहीं सकती।

इन दिनों मैं ऐसे एक कमरे में रहती हूं,
चाहूं भी तो खोल नहीं सकती,
इस घर के दरवाजे,
लांघ नहीं सकती चौखट।

एक ऐसे कमरे में रहती हूं मैं,
जिसमें किसी जीव के नाम पर
दक्षिणी दीवार पर
चिपकी रहती हैं दो अदद छिपकलियां।

मनुष्य या मनुष्यनुमा किसी प्राणी को
इस कमरे में नहीं है प्रवेशाधिकार।
हां, इन दिनों मैं एक ऐसे कमरे में रहती हूं,
जहां मुझे सांस लेने में बेहद तकलीफ होती है।

चारों तरफ कोई आहट भी नहीं,
सिर्फ और सिर्फ सिर टकराने की आवाजें।
नहीं देखतीं दुनिया के किसी मनुष्य की आंखें
गड़ी रहती हैं, सिर्फ दो छिपकलियों की आंखें।
आंखें फाड़-फाड़ कर निहारती रहती हैं,
पता नहीं, वे दुखी होती हैं या नहीं
क्या वे भी रोती हैं मेरे साथ, जब मैं रोती हूं ?

मैं ऐसे एक कमरे में रहती हूं,
जहां रहना मैं एकदम नहीं चाहती।
मैं ऐसे एक कमरे में असहाय कैद हूं।
हां ऐसे ही एक कमरे में रहने को
मुझे विवश करता है लोकतंत्र।

ऐसे एक कमरे में
ऐसे अंधेरे में, ऐसी एक अनिश्चयता, एक आशंका में
मुझे रहने को लाचार करता है लोकतंत्र,
एक कमरे में तिल-तिल मेरी हत्या कर रही है-धर्मनिरपेक्षता।
एक कमरे में मुझे असहाय,
निरुपाय किए दे रहा है-प्रिय भारतवर्ष।

भयंकर व्यस्त-समस्त मानस और मानसनुमा प्राणी,
पता नहीं, उस दिन भी उन्हें
पल-दो-पल की फुर्सत होगी या नहीं,
जिस दिन सड़ा-गला एक लोथड़ा या हड्डी-पसली
लांघेगी दहलीज।
आखिरकार, क्या मौत ही मुक्ति देगी?
मौत ही शायद देती है आजादी, चौखट लांघने की
उस दिन भी मुझे टकटोरती रहेंगी
छिपकली की दो जोड़ी आंखें।
दिन भर वे भी शायद होंगी दुखी उस दिन!

गणतंत्र के झंडे में लपेटकर
प्रिय भारत की माटी में
कोई मुझे दफन कर देगा, शायद कोई सरकारी मुलाजिम।
खैर, वहां भी मुझे नसीब होगी
एक अल्प कोठरी।
उस कोठरी में लांघने के लिए
कोई दहलीज नहीं होगी,
वहां भी मिलेगी मुझे एक अदद कोठरी,
लेकिन जहां मुझे सांस लेने में कोई तकलीफ नहीं होगी।

नजरबंद
कभी किसी दिन अगर तुझे होना पड़े नजरबंद,
अगर कोई पहना दे पांवों में बेड़ियां,
मुझे याद करना।
जिस कमरे में तुम हो, अगर किसी दिन
उस कमरे का दरवाजा अंदर से नहीं
बाहर से बंद करके कोई जा चुका हो,
मुझे याद करना।

पूरे मंजिले में कोई न हो, जो सुने तुम्हारी आवाज,
जुबान ताला-बंद, होंठ कसकर सिले हुए
तुम बात करना चाहते हो, मगर कोई नहीं सुनता,
या सुनता है, मगर ध्यान नहीं देता,
मुझे याद करना।

मसलन, तुम शिद्दत से चाहते हो
कोई खोल दे दरवाजा,
खोल दे तुम्हारी बेड़ियां, सारे टांके,
मैंने भी चाहा था,
गुजर जायें महीने-दर-महीने,
कोई रखे नहीं कदम इस राह,
दरवाजा खोलते ही जाने क्या हो-न-हो,
इसी अंदेशे में अगर कोई खोले नहीं दरवाजा,
मुझे याद करना।

जब तुम्हें हो खूब-खूब तकलीफ
याद करना, मुझे भी हुई तकली,
बेहद डरे-सहमे, तकर्कता से नाप-नापकर चलता हो जीवन,
एकदम से अचानक हो सकता है
नजरबंद, कोई भी, तुम भी!
अब तुम-मैं, सब एकाकार, अब नहीं कोई फर्क सूत भर भी!
मेरी तरह तुम भी इंतजार करना
तुम भी इनसानों का!
हहराकर घिर आता है अंधेरा
मगर नहीं आता कोई इनसान!